हम मानव जाति की एक बहुत बड़ी समस्या है किसी काम को कल पर टालने की । हम किसी काम को तब तक नही करते जब तक वो करना अत्यंत जरूरी न हो । और कई बार तो इसी चक्कर मे काम अधूरा छूट जाता है । और खासकर हमारे देश जहा बचपन से ही कछुए खरगोश वाली कहानी सुनाई जाती , वहां लोगो की ऐसी दशा होना आश्चर्यचकित करता है ।

कहा जाता है धन चला जाये तो तो उसका अर्जन दुबारा किया जा सकता है लेकिन बीते हुए समय को वापस अर्जित नही किया जा सकता । समय न आज तक रुका है और ना आगे कभी रुकेगा । बड़े बड़े शूरवीर समय को रोकने में असफल रहे है । इस हिसाब से सबसे ज्यादा कीमत समय का होना चाहिए था लेकिन हम मनुष्य जाति सोने चांदी हीरे जवाहरात को ज्यादा कीमती समझते है और देखा जाए तो असल समस्या यही से शुरू होती है ।

दरअसल सारा खेल हमारे सोच से ही तो शुरू होता है । हम बचपन से कोई काम समय से होते हुए देखते ही नही है । पापा को अगर 10 बजे दफ्तर जाना होता है तो वो साढ़े 10 बजे घर से ही निकलते है । बिजली का बिल अगर 30 तारीख को भरना होता है तो उसको अगले महीने की 15 तारीख को भरा जाता है वो एक लेटर के साथ जिसमे फाइन माफ करने की अर्जी होती है । हाँ सब ऐसा नही करते पर 70 फीसदी हिंदुस्तानी परिवारों की यही कहानी है ।

अब जब हम ये सब बचपन से देखते आ रहे होते है तो हमारा स्वभाव भी वैसा ही होना लाजमी है । पर इन सब के बीच हमे पता ही नही चलता की कब हम अर्थहीन जीवन जीने लगते है ।

आपने गौर किया है कि जिंदगी में सिर्फ 0.1 प्रतिशत लोग ही सफल क्यों होते है । इसलिए क्योंकि ये समय की इज्जत करना जानते है । हम सभी को 24 घंटे ही मिलते है । कुछ लोग इसी 24 घण्टे में सफलता के कई आयाम अस्थापित करते है वही कुछ लोग इससे वंचित रह जाते है ।

हमे अपने कार्य तो समय से पहले निपटा ही लेने चाहिए साथ ही यह भी तय करना चाहिए कि हम दिन के बचे हुए समय का सदुपयोग कैसे करे ।

आइए कुछ तरीको को जानते है जो आपको समय की कद्र करना सिखाएगी –

【1】हर दिन या हफ्ते की एक कार्यकारिणी बनाये और उसमें सभी जरूरी कार्यो को डाले । इससे आप किसी भी काम को तय समय से पहले कर पाएंगे ।

【2】अपने बीते एक हफ्ते के अनुभव के आधार पर अपने खाली समय या बर्बाद की हुई समय को चिन्हित करें । और इनमें कोई रचनात्मक कार्य प्रारम्भ करे ।

【3】कभी कभी हम किसी मनोरंजन में इतना खो जाते है कि समय का पता ही नही चलता । उदहारण के तौर पर आपने सोचा कि आप 30 मिनट टीवी देखेंगे लेकिन देखते देखते कब 2 घंटे बीत गए पता ही नही चला । इससे बचने के लिए आप टाइमर या अलार्म का उपयोग कर सकते है ।

【4】अगर दिन में आपको फिर भी समय बचे तो आप आमदनी के दूसरे स्रोतों पर विचार करे । आजकल रफ्तार का जमाना है । और अगर आप ऐसा करते है तो इससे आपको एक और फायदा हो सकता है की अगर आपका एक स्रोत किसी कारण बन्द भी हो जाये तो आप मुसीबतों में नही घिरेंगे ।

उम्मीद है ये पोस्ट आपके जिंदगी में ब्रह्मास्त्र साबित होगी । ऐसे ही पोस्ट के लिए ब्रह्मास्त्र से जुड़े ओर औरो को भी जोड़े । क्योंकि बदलाव की शूरुआत हमसे और आपसे ही होती है ।

आपका दिन शुभ हो !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here