क्या आपने कभी सोचा है कि जब आप अपनी बाइक को ब्रेक लगाकर चलाये तो क्या होगा । हम पूरी रफ्तार में बाइक को नही चला पाएंगे क्योंकी ब्रेक उसकी रफ्तार में रुकावट का काम करेंगीं । अगर हम इसी तरह चलाने की कोशिश करते रहे तो इंजन खराब भी हो सकता है । हमे इसे सुचारू रूप से चलाने के लिए ब्रेक छोडना ही पड़ेगा । ठीक इसी तरह जीवन मे आगे बढ़ने के क्रम में अनेक भावनात्मक ब्रेक लगती रहती है जो जीवन के गाड़ी को आगे बढ़ने से रोकती है । हमे सकारात्मकता से इन भावनात्मक ब्रेक को किनारे कर आगे बढ़ना होता है ।

आइए जानते है कुछ कारणों के बारे में जो हमे श्रेष्ठता हासिल करने से रोकती है –

【1】 रिस्क लेने से डरना

सफलता के रास्ते मे आपको नपे तुले रिस्क लेने ही पड़ते है । अगर आप रिस्क लेने से डरेंगे तो कभी सफलता के रास्ते पे नही जा पाएंगे । हाँ लेकिन इसका ये मतलब कभी नही है कि बिना विचार किये मूर्खता पूर्ण निर्णय ले ले । उदारहण के तौर पर अगर किसान कहे वो फसल इसलिए नही बोयेगा की अधिक बारिश होगी तो उसका फसल खराब हो जाएगा तो वो कभी फसल उगा ही नही पायेगा ।

【2】जरूरी कार्य का निर्धारण नही करना

कभी कभी हम खुद को ऐसे कार्यो में उलझा लेते है जो जरूरी नही होती ऐसे में जो काम करना बहुत जरुरी होता है वही अधूरा रह जाता है । अतः लक्ष्य के साथ अपनी प्रियोरिटीज निर्धारित करना अतयंत आवश्यक है ।

【3】धैर्य नही रखना

कभी कभी हम सफलता के बेहद करीब पहुच कर भी उससे वंचित रह जाते है इसका कारण होता है धैर्य का नही होना । असफलताओं के रास्ते ही हम वहां तक पहुंच सकते है उससे घबरा कर कदम पीछे हटाना बुद्धिमानी भरा निर्णय नही कहा जायेगा ।

【4】खुदगर्जी और लालच

कभी कभी क्षणिक सुख के लिए हम लोभ में पड़ जाते है जो हमे अत्यधिक नुकसान पहुंचाता है । जिंदगी में आगे बढ़ने के क्रम में हमे सिर्फ खुद के बारे में ही नही सोचना होता है इससे हमारे रिश्ते तो खराब होते ही है साथ साथ हमारा बड़ा नुकसान हो सकता है ।

【5】सटीक योजना का ना होना

किसी भी लक्ष्य या कार्य को करने से पहले उसके हर पहलू विचार करना चाहिए और फिर एक सटीक योजना के साथ आगे बढ़ना चाहिए । बिना योजना के हमे समय तो अधिक लगता ही है और आउटपुट भी कम मिलता है ।

【6】मौके को नही पहचानना

कुछ लोग मुश्किलों ओर रुकावटो को देख कर घबरा जाते है वही कुछ लोग समझदारी से इसका सामना करते है क्योंकि उन्हें पता होता है कि मुश्किलें जब भी आती है मौके को साथ लेकर आती है । जो लोग घबरा जाते है वो असल मे मौके को पहचान ही नही पाते ।

【7】योग्यता का सही इस्तेमाल न करना

कभी कभी हम योग्यता होते हुए भी उसका सही इस्तेमाल नही कर पाते । ऐसे में सफलता हमारे निकट आकर निकल जाती है और हमे पता भी नही चलता । हमे खुद पर कार्य करके अपने योग्यताओं से रूबरू होना चाहिए ।

उम्मीद है ये पोस्ट आपके जिंदगी में ब्रह्मास्त्र साबित होगी । ऐसे ही पोस्ट के लिए ब्रह्मास्त्र से जुड़े ओर औरो को भी जोड़े । क्योंकि बदलाव की शूरुआत हमसे और आपसे ही होती है ।

अपना राय कमैंट्स में जरूर बताएं ।

आपका दिन शुभ हो !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here